Home I Bookmark this site
Read Jyotish Manthan
Jyotish Praveen Course
RSS Feed Rss Feed
Contact Us Contact Us
About I.C.A.S. About I.C.A.S.
Want to open
ICAS regular chapter
in your city
News & Events
your updation with ICAS
Services
by ICAS Experts
Membership
get website membership Free

get Icas membership Paid
Astrology Asthak Varga Horary Medical Astrology Remedial Astrology Transit Vastu Maidini Match Making Astronomy
Astrology read articles in ENGLISH
शशयोग

ज्योतिष महासागर के विभिन्न मौक्तिक गं्रथों में से फलदीपिका गागर में सागर जैसा ग्रंथ है। इस ग्रंथ के छठे अध्याय के प्रथम श्लोक में पंचमहापुरूष योगों का वर्णन है यथा :-

रूचक हंसक भद्रक मालत्व

            शशका इति पंच च कीर्तिता।

स्वभवनोच्चागतेषु चतुष्टये,

                 क्षितिसुतादिषु तान क्रमशोवदेत्H

इस श्लोक में वçण्üात पंचमहापुरूष योगों में से शश योग महत्वपूर्ण है, जो मंदग्रह शनिदेव द्वारा निर्मित्त होता है। जब किसी व्यक्ति की जन्मपत्रिका में मकर, कुंभ अथवा तुला राशि में शनिदेव केन्द्र चतुष्ट्य भावों में स्थित हों तो इस महापुरूष योग की रचना हो जाती है अर्थात् जब शनिदेव स्वगृही या उच्च राशिगत होकर केन्द्रस्थ होते हैं तो शश योग होता है। फलदीपिकाकार कहते हैं कि :-

शस्त: सर्वजनै: सुभृत्यबलवान् ग्रामाधिपो वा नृपो।

दुर्वृत्त: शशयोगजोडन्यवनिता वित्तान्वित: सौख्यवानH

अर्थात् - जो व्यक्ति शशयोग में उत्पन्न होते हैं, वे प्रभावशाली होते हैं, ग्राम प्रमुख या नृप अथवा उच्चााधिकारी होते हैं। ऎसे व्यक्ति स्वयं बलवान, प्रतिष्ठित, नेतृत्व सम्पन्न एवं प्रशंसनीय होते हैं और ये धनवान एवं सुखी होते हैं। महर्षि पाराशर प्रोक्त वृहत् पाराशर होरा शास्त्र में शश योग की विवेचना निम्न श्लोकों में की गई है:-

 तनुद्विजमुख: शूरो नातिह्रस्व: कृशोदर:।

मध्ये क्षाम: सुजंघp मतिमान् पररन्ध्रवित्H

शक्तो वनादि दुर्गेषु सेनानिर्दन्तुर: शश:।

चंचलो धातुवादी च स्त्रीसक्ताùन्यधनान्वित:H

मालावीणामृदड्गùस्त्र-रेखाडि्कतकरांधिक:।

भूपोùयं वसुधां पाति जीवं रवाद्रिसमा: सुखीH

उनके अनुसार शश योग में जन्मे व्यक्ति के दाँत, मुँह छोटे एवं कद नाटा, पतली कमर, पतला पेट, जंघा एवं पिंडलियाँ मजबूत, छिद्रान्वेषी, वन एवं पर्वतवासी, दुर्गम किलों का स्वामी, सेनापति लक्षणयुक्त, चंचल, चिकित्सक, औषध निर्माता, सर्राफ, रत्न व्यवसायी, परस्त्रीरत, होते हैं। जब हम शश योग का विवेचन करते हैं तो हमें शनिदेव के सामान्य कारकत्वों पर भी विचार करना होगा। कालिदास विरचित ज्योतिष के ग्रंथ उत्तरकालामृत में शनिदेव के कारकत्वों का विशद वर्णन मिलता है जिनमें से कुछ प्रमुख हैं- काला रंग, काले वस्त्र, धान्य, लौह, मलिनता, भयानक स्वरूप, दासता, अंत्यज, विकृत अंग, आलसी, चर्म उद्योग, रोग, न्यायप्रिय, चांडाल प्रवृत्ति, वन भ्रमण, कंबल, उदार, शूद्र वर्ण, पश्चिमाभिमुख, काम प्रिय, कुत्ता, चोरी एवं हठ आदि। साथ ही मंदगति होने के कारण विलंब से कार्य करना, दीर्घायु एवं लंबी अवधि के रोगों से ग्रस्त होकर, मरण होना भी शनि के कारकों में आते हैं। शनि के इन नैसर्गिक कारकत्वों का विश्लेषण करते हैं तो ऎसा लगता है कि शनिदेव, जीवन के अधिकतम नकारात्मक कर्मो का प्रतिनिधित्व करते हैं परंतु ऎसा नहीं है। यदि हम देखें तो शनिदेव महापौरूषत्व के गुणों को, शनि प्रधान व्यक्ति में भर देते हैं। यदि हम यह कहें कि :

धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय।

माली खींचे सौ ƒ़ाडा, ऋतु आय फल होयH

अर्थात् शनिदेव अपार सुख-संपदा, वैभव, पद-प्रतिष्ठा, नेतृत्व जैसे सभी भौतिक पदार्थ देते हैं परन्तु शनै: शनै:। शश योग में जन्मे व्यक्ति अपने जीवन में धीरे-धीरे चर्मोत्कर्ष तक पहुँचते हैं। शनिदेव निर्मित्त शश योग में जन्मे जे.आर.डी. टाटा भारत के महान उद्योगपतियों में से एक हैं, जो विपरीत परिस्थितियों में भी अंग्रेजी साम्राज्य के समय परिश्रम और लगन की हठधर्मिता के कारण सफलता के सर्वोच्चा सोपान तक पहँुचे। इनके चतुर्थ भाव में मकर राशि में, स्थित होकर शनिदेव ने शश योग का निर्माण कर उन्हें अपार धन संपदा, लोकप्रियता, जनसहयोग, राजकृपा दी। वे देश का मूलभूत ढाँचा स्थापित कराने में सफल रहे। प्रसिद्घ उद्योगपति टाटा एक महापुरूष के रूप में याद किए जाते हैं। ब्रिटेन की पूर्व प्रधानमंत्री मार्गरेट थैचर की जन्मकुण्डली में शनि तुला लगनस्थ होकर उच्चा हैं। तुला लग्न का व्यक्तित्व बहुत गंभीर और संतुलित होता है। शुक्रदेव की राशि में, शनिदेव उच्चा के होकर जब शश योग बनाते हैं तो मानो शुक्र जनित काम का, शनिजनित न्याय में परिवर्तन हो जाता है और ऎसा व्यक्ति देश को नया एवं जोशीला नेतृत्व देने में सफल रहता है, वही किया है मार्गरेट थेचर ने। वे दीर्घकाल तक ब्रिटेन की प्रधानमंत्री रहीं उनकी लोकप्रियता, प्रतिष्ठा एवं पद में कभी ह्रास नहीं हुआ। शनिदेव की नैसर्गिक प्रकृति के अनुसार वे लंबे समय तक पद पर बनी रहीं और सुना जाता है वे 20 से 22 घंटे तक कार्य करती थीं। तो क्या यह शनिदेव के परिश्रम, तप एवं साधना करने का साक्षात् उदाहरण नहीं है। इतना परिश्रम शनिदेव ही करा सकते हैं। महापुरूष बनने के लिए महान कार्य करना भी एक शर्त होती है और शनिदेव ऎसा करा पाने में ही सफल रहते हैं। यदि हम ज्ञान, तप, साधना और गूढ़ रहस्यों का नैयायिक उद्घाटन होते देखें तो हमें कुछ महान् संतों की जन्मपत्रिकाओं की ओर भी ध्यान देना होगा। संत शिरोमणि जननायक तुलसीदास की जन्मपत्रिका में शश योग का निर्माण, तुला राशि में शनिदेव की अवस्थिति से हो रहा है। यहाँ ज्ञान की अमृत वर्षा करने वाले बृहस्पति लग्न में शनि से युति कर, शश योग में वैशिष्टय उत्पन्न कर रहे हैं। संत कवि तुलसीदास की महानता, अमर साहित्य और दास भक्ति से कौन परिचित नहीं हैक् तुलसीदास का जन्म ऎसे काल में हुआ था जब मुगल राजाओं का शासन था और चहँुओर इस्लाम धर्म का प्रचार-प्रसार हो रहा था, लोग तेजी से हिंदू धर्म को छो़डकर मुस्लिम धर्म ग्रहण कर रहे थे। ऎसे में तुलसीदास ने अपनी कठोर तपस्या, लगन, परिश्रम, एवं अटूट भक्ति के कारण एक महान ग्रंथ रामचरित मानस की रचना लोकभाषा में की, जो आज तक भी जन-जन की श्रद्घा और भक्ति का केन्द्र है। ये शशयोग की फलान्विति ही है कि इतनी विषम एवं प्रतिकूल परिस्थितियों में भी वे हिंदू धर्म की रक्षा अपने परिश्रम, ज्ञान, भक्ति और साधना के बल पर करने में सफल रहे। शनिदेव के नैसर्गिक धर्म न्याय की रक्षा करने मेें सफल सिद्घ हुए। त्याग, तपस्या, साधना, वैराग्य, भक्ति, न्याय, विवेक, परिश्रम, उद्देश्य के प्रति अगाध एवं अटूट संबंध इन सब गुणों के लिए हमें शनिदेव की शरण में ही जाना प़डता है। जन्म-जन्मांतरों के कर्मो के फलों का निर्वहन एवं समाçप्त शनिदेव की असीम कृपा के बिना संभव नहीं है। जहाँ एक ओर हम शश योग में त्याग, तपस्या, भक्ति की पराकाष्ठा पाते हैं, वहीं दूसरी ओर वे शुक्रदेव की कला, शालीनता, लावण्य, नृत्य आदि साधनाओं के भी प्रबल पारखी हैं। सिने जगत की महान हस्तियों की जन्मपत्रिकाओं को यदि हम देखें तो हम यह पाएंगे कि शनिदेव, शुक्र के साथ मिलकर भी व्यक्ति को बुलंंदियाेंं पर पहुँचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इनमें प्रमुख हैं, धर्मेद्र, मीनाकुमारी, के.एल. सहगल, मालासिन्हा, शाहरूख खान आदि जो शनिदेव निर्मित्त शशयोग के कारण अपनी अभिनय कला में तप और साधना के बल पर सफलता की बुलंदियों पर पहुँच पाए। अभिनय कला के ही क्षेत्र में हम देखते हैं कि सिने जगत की एक महान् अदाकारा मीनाकुमारी की जन्म पत्रिका के चतुर्थ भाव में शनि स्थित होकर शशयोग का सृजन कर रहे हैं। मीनाकुमारी संवेदनशील अभिनेत्री थीं तथा उन्होंने अपने भाव पूर्ण अभिनय कला के प्रदर्शन से न जाने कितने ही दिलों पर राज किया। अपने पूरे जीवनकाल में वे केवल कला की साधना में रत रहीं और सर्वस्व त्यागकर भी कला का दक्षतापूर्वक निर्वाह करती रहीं। अपने जमाने में शनिदेव ने उन्हें लोगों की पलकों पर बिठाया और वे अभिनय के एक ऎसे शिखर पर पहुँचीं जहाँ से आज भी उन्हें पदच्युत कर पाना किसी अन्य अभिनेत्री के लिए उतना संभव नहीं है। त्याग, तपस्या, परिश्रम और कठोर साधना के कारण वे सिने इतिहास में आज भी श्रद्घा और आदर के भाव से पूज्य हैं। शशयोग के परिणाम जीवन के किसी भी क्षेत्र में मिल सकते हैं, चाहे वह राजनीतिज्ञ, भक्ति, त्याग, अभिनय और पराक्रम के क्षेत्र में भी शनिदेव सृजित शशयोग ने उत्तम परिणाम दिए हैं। हमारे देश की श्रेष्ठतम एवं सुप्रसिद्घ धाविका पी.टी. उषा की जन्मपत्रिका में शनिदेव ने स्वराशि कुंभ में लग्न में स्थित होकर शशयोग का सृजन किया है। पी.टी. उषा के खेलों में दिए गए महान् योगदान को देश एक अंतराल तक स्मरण रखेगा और उनकी इस लग्न एवं साधना के कारण ही भारत सरकार ने उन्हें खेलों के क्षेत्र में दिए जाने वाले प्रतिष्ठित एवं सर्वोच्चा सम्मान अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया। ज्योतिष ग्रंथों में विवेचना मिलती है कि शनिदेव अन्वेषणी बुद्घि के दाता भी हैं और यदि शशयोग निर्मित्त कर किसी जातक को अन्वेषणी बुद्घि प्रदान करते हैं तो ऎसा व्यक्ति सुकर्म एवं सुकृत्य कर जाता है जिसे लोग लंबे समय तक स्मरण करते हैं। इसका हमें श्रेष्ठतम उदाहरण मिलता है महान वैज्ञानिक अलेक्जेडंर ग्राहम बैल की कुंडली में। जिन्होंने संचार की दुनिया में एक महानतम आविष्कार किया था - वह था टेलीफोन। आज का युग केवल दूरसंचार के साधनों यथा मोबाइल, टेलीफोन, फैक्स,... शेष पृष्ठ 61 पर शश योग... (शेष पृष्ठ 25 से) इंटरनेट आदि पर अवलंबित सा हो गया है। आज समाज का प्रत्येक वर्ग संचार क्रांति का अभिन्न अंग है और महान वैज्ञानिक ग्राहम बैल का ऋणी है। यहाँ हम सूक्ष्म अन्वेषण करें तो पाएंगे कि शनिदेव ने ग्राहम बैल की कुंडली में लग्न में कुंभ राशि में सूर्य के साथ स्थित होकर शशयोग के निर्माण को सर्वव्यापक कर दिया और वे ऎसा आविष्कार करने में सफल रहे, जिससे राजा से लेकर रंक तक देखें। यहाँ शनिदेव अपने नैसर्गिक धर्म का पूर्णत: पालन कराने में समर्थ रहे कि सबको न्याय मिले तथा वहीं दूसरी ओर इस महान आविष्कार टेलीफोन का उपयोग शनिदेव के नैसर्गिक अनुयायी या प्रतिनिधि श्रमिकगण भी कर रहे हैं। सिने जगत की ऎसी महान शख्सियत जो संगीत का बादशाह होकर लोगों के दिलों पर राज करती रही, वे हैं संगीतकार के.एल. सहगल। वे न केवल मधुर और सरस स्वर के धनी थे, बल्कि अभिनय कला में भी उतने ही प्रवीण थे। लग्न में स्वराशि कुंभ में, केतु से युत शनिदेव ने उनकी जन्म पत्रिका में उत्तम श्रेणी के शश योग की सर्जना कर, उन्हें इतनी इ”ात बख्शी कि वे महान् सितारा बन गए। आज भी लोग उनके गीतों को दिलो-दिमाग में संजोये गुनगुनाते रहते हैं। उनके दर्द भरे गीत, आत्मा तक से परिचय कराते हैं, यही तो विशेषता है शनिदेव की कि वे किसी भी क्षेत्र में जातक को डूब जाने की प्रेरणा देते हैं और व्यक्ति महान हो जाता है। खगोल में शनिदेव का परिक्रमा पथ अन्य ग्रहाें के परिक्रमा पथ से बाहर एवं दीर्घ है और ज्योतिष गं्रथों में कहा भी गया है कि `An4ह्लद्धinद्द enस्त्र iह्य स्त्रह्वe ह्लश् स्ड्डह्लह्वrnज् अर्थात् किसी क्षेत्र की पराकाष्ठा का नाम शनिदेव है। शनिदेव व्यक्ति को विषय विशेष का इतना गहन अनुरागी बना देते हैं कि वह उस विषय की पराकाष्ठा तक पहुँचने के लिए साधनारत रहता है और सफलता प्राप्त करता है। शशयोग की मीमांसा जितना की जाए, समुद्र में बूंद के समान ही रहेगी।

in association: Astro Blessings International Pvt. Ltd. Jyotish Manthan Internationa Vastu Academy Best Astrology Site Design & Developed by
pixelmultitoons