Home I Bookmark this site
Read Jyotish Manthan
Jyotish Praveen Course
RSS Feed Rss Feed
Contact Us Contact Us
About I.C.A.S. About I.C.A.S.
Want to open
ICAS regular chapter
in your city
News & Events
your updation with ICAS
Services
by ICAS Experts
Membership
get website membership Free

get Icas membership Paid
Astrology Asthak Varga Horary Medical Astrology Remedial Astrology Transit Vastu Maidini Match Making Astronomy
Astrology read articles in ENGLISH
बृहस्पति का मेष में गोचरफल - सतीश शर्मा
बृहस्पति मेष राशि में आने ही वाले हैं। 7 मई 2011 से 17 मई 2012 तक वे मेष राशि में रहेंगे। हम इसे वर्ष कहेंगे। मीन राशि से मेष में आने के बाद, वे मेष राशि में स्थित होकर विभिन्न राशियों को प्रभावित करेंगे। कुछ विद्वान मानते हैं कि वे राशि में वास्तविक प्रवेश से डेढ़-दो महीने पहले ही अगली राशि के परिणाम देना शुरू कर देते हैं। इस बात को मानते हुए यदि बृहस्पति मेष राशि में 8मई को प्रवेश करते हैं तो 15 मार्च 2011 के बाद कई लोगों को मेष राशि के फल प्राप्त करते हुए देखा जा सकता है। गत दिनों में ऎसा अनुभव में भी आया है।
यहां जन्म राशि पर आधारित बृहस्पति का गोचर लिखा जा रहा है ताकि प्रत्येक राशि वाले उनके फलों का अनुमान लगा सकें। राशि की गणना जन्मपत्रिका में चन्द्रमा की स्थिति से की जाती है। यदि आपको अपनी जन्मराशि नहीं मालूम तो आपके प्रसिद्ध नाम के प्रथम अक्षर के आधार पर फल देखें।

मेष: मेष लग्न के लिए बृहस्पति भाग्योदय लाने वाले हैं। न केवल वे लग्न को बलवान करेंगे बल्कि राजा, न्यायालय और आम जनता से समर्थन प्राप्त कराएंगे। यह वर्ष (अर्थात् बृहस्पति के मेष राशि में स्थित रहने का वर्ष) आपकी संतान के लिए अत्यन्त श्रेष्ठ है। नया एडमिशन या किसी एम.बी.ए., इंजीनियरिंग में एडमिशन या कोर्स कर लिया हो तो नौकरी लगने के लिए यह श्रेष्ठ है। इस वर्ष आपको भागीदारी के मामलों में सफलता मिलेगी और लाभ होगा। नई भागीदारियां हो सकती हैं, भागीदारी में सार्थक परिवर्तन हो सकते हैं। नए प्रेम संबंध जन्म ले सकते हैं या पुराने प्रेम संबंध पुष्ट हो सकते हैं। जिनकी विवाह की उम्र है, उनके विवाह सम्पन्न हो सकते हैं। यह भाग्य फलने का वर्ष है तथा आपके पिता, गुरू, बॉस तथा धार्मिक मामलों के लिए अत्यन्त शुभ वर्ष है।

वृषभ: वृषभ लग्न के लिए यह ख्याति का वर्ष है जिसमें बृहस्पति आपकी कार्यप्रणाली में संशोधन चाहते हैं, नए अनुसंधान चाहते हैं और किसी कार्य को तेजी से लागू कराना चाहते हैं। इस समय आपकी लोकप्रियता बढ़ेगी, कर्जो मे कमी आएगी, भूमि भवन की प्राप्ति होगी, भूमि से संबंधित ऋण लेंगे, वाहन से संबंधित ऋण भी ले सकते हैं तथा अज्ञात स्रोतों से धनागम होगा। गोचरवश जब बृहस्पति अपनी ही राशि को जो कि अष्टम स्थान में स्थित है, देखते हैं तो ग़डा धन मिलता है। ब़डी फीस, भूमि से ब़डा लाभ, जमीन, मकान, खान से लाभ या ब़डी आर्थिक व्यवस्था, इसके आवश्यक परिणाम हैं। आपको आध्यात्म का नया परिचय मिलेगा, अधिक दान करेंगे, गुप्त रोगों का समाधान होगा और आध्यात्मिक आनंद की प्राप्ति होगी। ब़डा खर्चा करेगे तथा कानूनी मामलों मे निर्णायक मो़ड तक पहुंचेंगे। जितना रूपया हाथ में होगा, सब खर्च हो जाएगा। सुंदर उपहार लेंगे-देंगे।

मिथुन: लग्न से ग्यारहवें बृहस्पति लाभदायक हैं और प्रतिभा पर आधारित कार्य कराना चाहते हैं। यह अत्यन्त ओजस्वी बृहस्पति हैं जो ब़डे भाई या बहिन की तो चिंता कराएंगे परन्तु छोटे भाई या बहिन की समस्याओं को हल कर लेंगे। अत्यधिक ऊर्जावान होकर आप दुस्साहस के कार्य करेंगे। औसत से अधिक आर्थिक लाभ होगा, सरकारी लोगों से लाभ उठा पाएंगे, संतान के लिए यह वर्ष श्रेष्ठ है और उनका भाग्योदय होगा। सगाई संबंध या विवाह भी कर सकते हैं। आप स्वयं की पदवृद्धि होगी, भागीदारी में लाभ होंगे, जीवनसाथी को व्यवसाय में लाभ होगा, उनके जीवन को नई ऊंचाई मिलेगी। नए भागीदार मिलेंगे और भागीदारी से लाभ मिलेंगे। पुराने भागीदार से मुक्ति हो सकती है और यदि बनी रहेगी तो भागीदारी लाभदायक रहेगी। दैनिक आय बढ़ेगी।

कर्क: राशि से दशम बृहस्पति प्रारंभ से ही शुभ फल देना शुरू कर देंगे और अप्रैल-मई में ही विशेष उपलब्धियां हो जाएंगी। इस वर्ष शैक्षणिक क्षेत्रों मे नई उपलब्धियां होंगी, बॉस प्रसन्न रहेंगे, भूमि भवन या वाहन में आप पैसा लगाएंगे, घर मे मंगल कार्य होंगे, वस्त्र और आभूषण बनेंगे तथा ऋण लेंगे। इसके उलट ऋणों का अच्छा पुनर्भुगतान भी कर सकते हैं। ऎसा करने में किसी भूमि इत्यादि का निष्पादन भी कर सकते हैं। इस वर्ष कुछ ऎसा होगा कि आपकी ख्याति का विस्तार सीमाओं को लांघ जाएगा। ना केवल पुराने जेवर को नया करवा लेंगे बल्कि नया भी खरीद लेंगे। कहीं स्टेज इत्यादि पर सम्मानित होने का अवसर मिलेगा। पिता के लिए शुभ समय चल रहा है, आपके बॉस के लिए भी सही समय चल रहा है और शासन से आपके संबंध सुधरेंगे।

सिंह: इस वर्ष बहुत दावतें मिलेंगी। खुशी के एक से अधिक अवसर होंगे और कार्य संतुष्टि की वजह से वजन बढ़ेगा। अगर 2500 रूपए प्रति किलो का खर्चा नहीं करना चाहें तो तुरन्त मॉर्निग वॉक शुरू कर दीजिए। पद वृद्धि होगी, तनख्वाहें बढ़ेंगी, संतान को लाभ होगा, संतान का एडमिशन होगा या नौकरी लगेगी। आपको निर्धारित कार्य से उच्चाकोटि का कार्य दिया जाएगा और जहां आप काम करते हैं वहां की सारी बेगार आपके हिस्से मे आएगी। बॉस प्रसन्न तो रहेंगे परन्तु तेल निकाल लेंगे और आपको खुश भी करेंगे। धार्मिक कार्यो में रूचि बढ़ेगी, धर्म कार्यो पर खर्चा करेंगे, पिता और माता के लिए अत्यन्त शुभ समय है और दूरस्थ स्थानों की या विदेश की यात्राएं होंगी। किसी घटना विशेष से आप में अनंत उत्साह जागेगा और आप नई धुन में हर काम को करने की कोशिश करेंगे। देवता आप पर मेहरबान हैं अत: अधिक पूजा करें।

कन्या: आठवें बृहस्पति भूमि प्राप्ति कराएंगे। अचानक धन प्राप्ति कराएंगे, ब़डे उपहार दिलाएंगे, पाचनतंत्र के विकार बढ़ेेगे, आध्यात्म में नई उपलब्धि होगी, आपका दृष्टि क्षेत्र विकसित हो जाएगा, आप दूर-दूर की कल्पनाएं करेंगे और उन पर अमल करने की कोशिश भी करेंगे, साधन जुट जाएंगे। अनुमान से अधिक धन आने के कारण कप़डे और जेवर इत्यादि की मौज हो जाएगी। आपके नानी पक्ष के लिए अच्छा समय आ रहा है और माता के लिए भी शुभ समय आ रहा है। माता का सम्मान बढ़ेगा, उनके नाम से व्यवसाय में लाभ होगा। यदि दूर रह रहे हों तो माता से मिलना होगा। मातृ स्थान के भी नजदीक जा सकते हैं, कुल मिलाकर वर्ष अच्छा रहेगा परन्तु शारीरिक कष्टों से बचने के लिए खानपान पर बहुत अधिक ध्यान दें।

तुला : प्रेम संबंधों में अति सावधानी बरतें। कोई बनी हुई बात बिग़ड सकती है। आपसी संबंधों में अहंकार को सामने नहीं आने दें। कभी कुट्टी हो जाएंगे तो कभी ठीक हो जाएंगे। यह वर्ष भाई-बहिनों के लिए विशेष अच्छा है और कई मामलों में आपको उनकी मदद लेनी प़डेगी। आप भी उन्हें सहयोग कर सकते हैं। इस वर्ष भागीदारी में बहुत अधिक सावधानी बरतनी होगी यद्यपि लाभ होगा परन्तु अन्दर ही अन्दर कलह भी चलती रहेगी। व्यवसाय में कोई निर्णायक मो़ड अंत में आ सकता है।

वृश्चिक: बृहस्पति के प्रभाव में धनागम काफी होगा और ऋण भी बढ़ेगा। चार-छ: महीने संघर्ष करेंगे तब धीरे-धीरे परिस्थितियो पर नियंत्रण होता चला जाएगा। ऋणों का पुनर्भुगतान भी होगा और नए ऋण भी हौंगे। 2011 के उत्तरार्द्ध में जबकि शनि तुला राशि में आ जाएंगे, व्यावसायिक क्षेत्रों में संघर्ष बढ़ेगा और गला काट प्रतियोगिता चलेगी। यह साढ़ेसाती की शुरूआत है जिसके अच्छा जाने की संभावना है परंतु उतार-चढ़ाव देखने को मिलेंगे। कलह से सावधानी बरतें। संतान के लिए यह वर्ष अच्छा है और जीवनसाथी के लिए भी कुछ अच्छी उम्मीद कर सकते हैं। कुटुम्ब के मामलों में विवाद बने रहेंगे और सामूहिक निर्णय में आपको सहमति देनी प़ड सकती है। राजपक्ष से लाभ मिलेगा, व्यवसाय की शैली में परिवर्तन होगा और अद्भुत प्रतिष्ठा बढ़ेगी।

धनु : यह वर्ष भाग्योदय वाला है जिसमें आपकी पद-प्रतिष्ठा बढ़ेगी और संतान को लाभ होगा। यदि नौकरी करते हैं तो स्थानान्तरण संबंधी चिंताएं बनी रहेंगी और व्यवसाय करते हैं तो यात्राएं बढे़ंगी। इस वर्ष दावतें खूब खाने को मिलेंगी जिसके कारण वजन बढ़ेगा और उसके उपाय करते रहेंगे। भाई-बहिनों के लिए यह वर्ष शानदार जाने वाला है और उनके नौकरी-व्यवसाय में लाभ होगा। यह लाभ का वर्ष है जिसमें किसी कारण से औसत से अधिक आय अर्जित कर सकते हैं। 2011 के सितंबर के बाद आर्थिक लाभ की मात्रा में बढ़ोत्तरी होगी। छोटी-मोटी आकस्मिक घटनाएं हो सकती हैं परंतु बृहस्पति देवता के कारण आपकी रक्षा होती रहेगी । इस वष्ाü आप समूह के आचरण के नए नियम सीखेंगे परंतु गर्व करने के कारण कभी नीचा भी देखना प़ड सकता है।

मकर : नौकरी करने वालों के लिए यह वर्ष बहुत अच्छा जाएगा। व्यवसाय में भी आवश्यक परिवर्तन आएंगे और आप कुछ नया करने की सोचेंगे। आपको अच्छा समर्थन मिलेगा। आपकी प्रतिष्ठा अचानक बढ़ेगी और ब़डे वर्गो में आप लोकप्रिय हो सकते हैं। लोग आपसे सलाह-मशविरा करेंगे। आपको थो़डे ही दिनों बाद अपनी विशेष स्थिति में आना होना जिसके कारण आपके व्यवहार में एक नाटकीय परिवर्तन आ सकता है। भूमि-भवन के किसी एक मामले का विस्तार आप कर सकते हैं। वाहन की गति नियंत्रित रखें अन्यथा कोई कष्ट आ सकता है। 2011 के उत्तरार्द्ध में घर में थो़डी कलह बढ़ेगी या जीवनसाथी के स्वास्थ्य संबंधी समस्या हो सकती है। उनके नौकरी या व्यवसाय में कोई पी़डा आ सकती है। इस वर्ष कोई आकस्मिक धन प्राçप्त हो सकती है या विदेश यात्राएं हो सकती हैं या अन्य शहरों से आमदनी बढ़ सकती है तथा ऋणों का पुनर्भुगतान करने में भी सुविधा बढे़गी। आय के नए-नए तरीके समझ में आएंगे परंतु आप बिना अच्छी सलाह के काम नहीं करेंगे।

कुंभ : यह भाग्यशाली वर्ष है जिसमें बृहस्पति देवता आपके सप्तम, नवम व एकादश भाव को दृष्टिपात करते रहेंगे। प्रेम संबंधों में सफलता मिलेगी, जीवनसाथी के कार्य-व्यवसाय में बढ़ोत्तरी होगी, नए-नए अवसर मिलेंगे और आर्थिक लाभ की मात्रा बढ़ेगी। भाग्य के नए-नए अवसर प्राप्त होंगे और आप अपने प्रयासों से हर मामलों में सफलता अर्जित करेंगे। यह शत्रुओं के परास्त होने का समय चल रहा है जिसमें आप व्यावसायिक प्रतिद्वंद्विता में अपनी शर्तो पर जीत हासिल करेंगे। ब़डे भाई-बहिनों के लिए शुभ समय है परंतु छोटे भाई बहिनो की तरफ से थो़डी चिंता रहेगी। सरकारी लोगों से बहुत कौशल से कार्य लेंगे परंतु आर्थिक लाभ कमाने में आप तिक़डम का प्रयोग करेंगे और आपको उसका फायदा मिलेगा। इस वष्ाü नई भागीदारियां सामने आ सकती हैं। साधारण बाधाओं को छो़डकर कोई विशेष बाधा नहीं रहेगी। भूमि-भवन से संबंधित कोई निर्णय 2012 के पूर्वार्द्ध में कर सकते हैं।

मीन : इस वर्ष आपकी महत्वाकांक्षाएं परवान चढ़ेंगी और आप जोश व उत्साह में भर जाएंगे। 2011 के उत्तरार्द्ध में एक तरफ नौकरी करने वालों को थो़डी बहुत समस्या झेलनी प़डेगी तो दूसरी तरफ आप अपनी योग्यता के बल पर अपना उचित स्थान बनाए रखेंगे। कामकाज में शोध की प्रवृत्ति आपको लाभ देने वाली रहेगी। अर्थलाभ के सीमित अवसरों पर भी आप बचत करने में सफल हो जाएंगे या किसी नए स्रोत से आए धन को, ऋणों के पुनर्भुगतान में काम में लेगे। इस वर्ष आध्यात्मिक कार्यो में उन्नति होगी, रहस्यविद्याओं की प्राçप्त होगी तथा नए सहयोगी मिलेंगे। पारिवारिक मामलों में ब़डा दायित्व निभाएंगे और वर्ष में कई बार मंगलकारी कार्य होने के कारण दावतों में भाग लेंगे।
              
in association: Astro Blessings International Pvt. Ltd. Jyotish Manthan Internationa Vastu Academy Best Astrology Site Design & Developed by
pixelmultitoons